image

जम्मू: एक जमाना था जब सरहदें पैदा नहीं हुई थीं। वक्त बीता मुल्क बंटे, जमीनें बंटी और मानो सब कुछ बिखर सा गया। हम बात कर रहे हैं भारत-पाक विभाजन की जिससे पहले तक जम्मू से सियालकोट के लिए छुक-छुक करती रेलगाड़ी जाती थी। इस गाड़ी में सफर करने वाले भी तब नहीं जानते थे कि बंटवारे के बाद सब कुछ बदल जाएगा।

प्यार में दीवानी हुई जापान की राजकुमारी ने उठाया एेसा कदम, छिन जाएगा अब शाही दर्जा

भले ही आज सियालकोट पाकिस्तान का हिस्सा है पर इस रेल लाइन के अवशेष आज भी भारत में मौजूद है, लेकिन निरंतर पाक के साथ भारत के बिगड़ते संबंधों का प्रभाव भारतीय रेलवे पर जरूर दिखाई देगा, क्योंकि जम्मू-सियालकोट रेल भूमि योजना में भारतीय रेलवे, अपनी भूमि को अपने कब्जे में लेने की तैयारी कर रहा था, लेकिन बिना पाक के सहयोग से भारतीय रेलवे की यह इच्छा पूरी नहीं हो सकती। 

जेटली पर राहुल का बड़ा आरोप, कहा- बेटी के अकाउंट में मेहुल चौकसी ने डाले थे पैसे

भले ही आज यह भूमि लोगों द्वारा कब्जाई जा चुकी है और इस भूमि को लेकर मौजूदा समय में रेलवे के पास कोई दस्तावेज नहीं है परन्तु रेलवे करीब 6 वर्ष से इस भूमि अधिगृहण योजना पर काम कर रहा है, लेकिन पाक के साथ संबंध बेहतर न होने के कारण अब यह मामला और लटकता जा रहा है। भले ही आज जम्मू से सियालकोट तक की रेल लाइन मात्र एक इतिहास ही बन कर रह गई है, लेकिन इस रेल लाइन के कुछ अवशेष आज भी जम्मू व आर.एस. पुरा और इसके आसपास के क्षेत्रों में जिंदा हैं। 

#MeToo: तनुश्री के बाद अब राखी सांवत ने साधा अक्षय कुमार पर निशाना, कहा- मैं बहुत इज्जत...

ट्रेन 28 मिनट में पहुंचती थी जम्मू से सियालकोट 
वर्ष 1897 में जम्मू-सियालकोट रेल लाइन अपने अस्तिव में आई। जम्मू से सियालकोट की रेल मार्ग से दूरी करीब 43 किलोमीटर थी, जबकि इस रेल मार्ग के मध्य आर.एस. पुरा रेलवे स्टेशन पड़ता था, जिसकी दूरी जम्मू से करीब 14 किलोमीटर थी। इस रेल लाइन का निर्माण इंडियन रेलवे द्वारा करवाया गया था और करीब 28 मिनट में जम्मू से ट्रेन सियालकोट पहुंच जाती थी। विभाजन के बाद 1947 में इस लाइन को कई स्थानों से लोगों ने उखाड़ फैंका था और इसके बाद से जम्मू-कश्मीर के लोगों को 24 वर्ष तक रेलगाड़ी की सुविधा से महरूम रहना पड़ा, क्योंकि जम्मू का उसके बाद रेल मार्ग से संपर्क पूरी तरह से टूट गया।

Web Title: Jammu-Sialkot railway line remained in history

More News From jammu-kashmir

Advertisement
Advertisement
Next Stories
image

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
free stats