image

यरुशलम: एक अध्ययन में दावा किया गया कि स्मार्टफोन के डाटा का उपयोग मौसम संबंधी पूर्वानुमान जाहिर करने के लिए किया जा सकता है जिससे अचानक आने वाली बाढ़ और अन्य प्राकृतिक आपदाओं के बारे में समय रहते सूचना मिल सकेगी।

जेटली पर राहुल का बड़ा आरोप, कहा- बेटी के अकाउंट में मेहुल चौकसी ने डाले थे पैसे

इजराइल की तेल अवीव यूनिवर्सिटी के शोधकत्र्ताओं ने कहा कि स्मार्टफोन से वायुमंडल के दबाव, तापमान और आद्र्रता आदि की जानकारी वायुमंडलीय स्थितियों का पता लगाने के लिए ली जा सकती है। शोधकर्ताओं ने स्मार्टफोन के सैंसरों की कार्यप्रणाली समझने के लिए चार स्मार्टफोन को नियंत्रित स्थिति में तेल अवीव यूनिवर्सिटी के आसपास रखे।

प्यार में दीवानी हुई जापान की राजकुमारी ने उठाया एेसा कदम, छिन जाएगा अब शाही दर्जा

‘एटमॉस्फेरिक एंड सोलर- टेरेस्ट्रियल फिजिक्स’ जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया कि इस दौरान स्मार्टफोन में जो डाटा रहा उसका उपयोग मौसम संबंधी स्थिति का पता लगाने में किया गया। शोधकत्र्ताओं ने ब्रिटेन के एक एप्प ‘वेदरसिग्नल’ के डाटा का भी अध्ययन किया। 

राम मंदिर पर मोदी सरकार को ललकार, अगर 56 इंच का सीना हो तो लाओ अध्यादेश

तेल अवीव यूनिवर्सिटी के प्रोफैसर कोलिन प्राइस ने बताया कि हमारे स्मार्टफोन के सैंसर पृथ्वी के गुरुत्व, उसके चुंबकीय क्षेत्र, वायुमंडलीय दाब, प्रकाश के स्तर, आद्र्रता, तापमान, ध्वनि के स्तर सहित पर्यावरण की तमाम स्थितियों पर लगातार निगरानी रखते हैं।

#MeToo: सोनी राजदान ने तोड़ी चुप्पी, कहा- सेट पर इस शख्स ने मेरे साथ...

उन्होंने बताया कि आज, दुनिया भर के 3 से 4 अरब स्मार्टफोन में वायुमंडल संबंधी महत्वपूर्ण डाटा है जो मौसम और अन्य प्राकृतिक आपदाओं के बारे में सटीक पूर्वानुमान लगाने की हमारी क्षमता को बेहतर बना सकता है। इन आपदाओं की वजह से हर साल बड़ी संख्या में लोगों की जान चली जाती है। शोधकर्ताओं ने बताया कि 2020 तक दुनिया भर में 6 अरब और स्मार्टफोन होंगे। 

Web Title: Predictable sudden flooding possible from smartphone

More News From technology

Advertisement
Advertisement
Next Stories
image

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
free stats